· Reading time: 1 minute

सुख दुःख के भंवर …

सुख दुःख के भंवर में ना फंसिह बेटा
लाख होख परेसान हँसिह बेटा
राह जीवन के तनिको ना आसान ह
आत्मबल से तूँ मुस्का के चलिह बेटा
सुख दुःख के भंवर में ना फंसिह बेटा …

(बाहरी कहियो आंसू जो पोछि तोहार
बाद में आके सउदा ऊ करी तोहार) … 2
मारि ताना ऊ तहरा के कई दी बीमार
अपने ही आपन आंसू तूँ पोछिह बेटा … 2
लाख होख परेसान हँसिह बेटा
सुख दुःख के भंवर में ना फंसिह बेटा …

(चार दिन के जीवन में ह लालच बुरा
प्रेम से जीय नफरत द दिल से भुला) … 2
केहू आवे सरन में ल दिल से लगा
ना त जीवन में केकरो के छलिह बेटा … 2
लाख होख परेसान हँसिह बेटा
सुख दुःख के भंवर में ना फंसिह बेटा …

(किस्सा जीवन मरन के त चलल करी
केहू खातिर समय त ना रुकल कभी) … 2
फर्ज के पथ निरंतर तूँ बढ़ चली
याद हमरा के कके ना रोइह बेटा … 2
लाख होख परेसान हँसिह बेटा
सुख दुःख के भंवर में ना फंसिह बेटा …

🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻

✍️✍️✍️✍️✍️ by :
👉 Mahesh Ojha
👉 8707852303
👉 maheshojha24380@gmail.com

158 Views
Like
Author
1 Post · 158 Views
Script and Lyrics Writer. Founder : 1. The Vaageesh Seminary 2. The Vaageesh Publishing House
You may also like:
Loading...