गीत · Reading time: 1 minute

शिव के गीत

सावन में भोला की नगरी, भींड भइल बा भारी।
दर्शन खातिर भक्तगणन में, होला मारा-मारी।

तन प गेरूआ बस्तर अरुरी, मन में शम्भू दानी।
बम-बम शिव के नारा खाली, मुख से निकले बानी।
कान्हे पर काँवर शोभे ला, माथे चंदन टीका-
शंकर की महिमा के सबके, मुख पर हवे कहानी।

केहू अवघड़ दानी बोले, अउर अनघ त्रिपुरारी।
दर्शन खातिर भक्तगणन में, होला मारा-मारी।

भोले की सर पर शोभे ला, गंगा जी के पानी।
दायें शिव की सदा विराजे, माता गउरा रानी।
मृगछाला के आसन लागे, बसहा बैल सवारी-
हाथे में त्रिशूल डमरूआ, बाबा हउअन दानी।

भूत पिशाच प्रेत गण योगी, बाबा के दरबारी।
दर्शन खातिर भक्तगणन में, होला मारा-मारी।

गर्दन में साँपन के माला, आसन में मृगछाला।
पियें हलाहल दुनिया खातिर, शिव शम्भू मतवाला।
मेवा से परहेज करेलन, भाँग धतूरा खालन-
भक्तन के कल्याण करेलन, बम भोले रखवाला।

शिव के रँग में सभे रँगाइल, सावन में नर नारी।
दर्शन खातिर भक्तगणन में, होला मारा-मारी।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

20 Views
Like
You may also like:
Loading...