गीत · Reading time: 1 minute

शहर जा के का पइबअ

शहर जा के का पइबअ

गँउंवे में सगरी बहार हो
शहर जा के का पइबअ
इहें मिली ताजा बयार हो
शहर जा के का पइबअ

शहर में जइबअ त एने ओने धइबअ
बा लोगवा अपार रोजगार कहाँ पइबअ
चिंता से बथी कपार हो-
शहर जा के का पइबअ
इहें मिली… शहर जा…

गाँव तरे शहर में पेड़ बा ना पौधा
चिरई-चुरुङ्ग ना ओकनी के घरौंधा
ना बाटे गँउंवा के प्यार हो-
शहर जा के का पइबअ
इहें मिली… शहर जा…

सुनअ सुनअ भाई हो शहर में जा के
बिसारि ना पइबअ तू पीपरा के
मन लागी कइसे तोहार हो-
शहर जा के का पइबअ
इहें मिली… शहर जा…

– आकाश महेशपुरी

39 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...