गीत · Reading time: 1 minute

लतखिंचुअन के पँजरी…

लतखिंचुअन के पँजरी…
■■■■■■■■■■■■■■
लतखिंचुअन के पँजरी कबहूँ तू जइहऽ मति
मति मार दिहे सँ येकनी से बतिअइहऽ मति

बस लात पकड़ के खींचे के तइयारी बा
गाँव-नगर में पसरल ईहे बेमारी बा
मंजिल देखिहऽ तू बाती में अझुरइहऽ मति-
मति मार दिहे सँ येकनी से बतिअइहऽ मति

दोसरा के आगे बढ़त देखि दुख पावेला
दुख देबे खातिर पीछे पीछे धावेला
अइसन मनई के लासा में लसिअइहऽ मति-
मति मार दिहे सँ येकनी से बतिअइहऽ मति

काम करे जे मनवा के साहस तूरे के
ऊ नीक हवे ना मीत लगे भा दूरे के
अइसन लोग के माथे कबो चढ़ऽइहऽ मति-
मति मार दिहे सँ येकनी से बतिअइहऽ मति

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 02/04/2021

1 Like · 2 Comments · 23 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...