गीत · Reading time: 1 minute

राहि जोहेले छोटकी तोहार भइया

राखी गीत

आइल राखी के पावन तिहुआर भइया।
राहि जोहेले छोटकी तोहार भइया।

जेठ, अषाढ़ बितल आ गइल सावन।
सावन के पूर्णिमा हऽ शुभऽ दिन पावन।
भूलि जइहऽ ना हमरो दुआर भइया।
राहि जोहेले छोटकी तोहार भइया।

अनमोल प्रेम होला भाई-बहिन के।
रहे प्रतिक्षा बहुत एहि दिन के।
भले दिहऽ ना कंगन हार भइया।
राहि जोहेले छोटकी तोहार भइया।

गूथल धागा में प्रेम आशीष हो।
जुग-जुग जिहऽ तू लाखऽ बरिस हो।
तहके लागे उमिरिया हमार भइया।
राहि जोहेले छोटकी तोहार भइया।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

7 Views
Like
You may also like:
Loading...