कविता · Reading time: 1 minute

रहे इहाँ जब छोटकी रेल

रहे इहाँ जब छोटकी रेल
____________________
देखल जा खूब ठेलम ठेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
चढ़े लोग जत्था के जत्था
छूटे सगरी देहि के बत्था
चेन पुलिग के रहे जमाना
रुके ट्रेन तब कहाँ कहाँ ना
डब्बा डब्बा लोगवा धावे
टिकट कहाँ केहू कटवावे
कटवावे उ होई महाने
बाकी सब के रामे जाने
जँगला से सइकिल लटका के
बइठे लोग छते पर जा के
रे बाप रे देखनी लीला
चढ़ल रहे ऊ ले के पीला
छतवे पर कुछ लोग पटा के
चलत रहे केहू अङ्हुआ के
छते पर के ऊ चढ़वैइया
साइत बारे के पढ़वइया
दउरे डब्बा से डब्बा पर
ना लागे ओके तनिको डर
कि बनल रहे लइकन के खेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
भितरो तनिक रहे ना सासत
केहू छींके केहू खासत
केहू सब केहू के ठेलत
सभे रहे तब सबके झेलत
ऊपर से जूता लटका के
बरचा पर बइठे लो जाके
जूता के बदबू से भाई
कि जात रहे सभे अगुताई
ट्रेने में ऊ फेरी वाला
खुलाहा मुँह रहे ना ताला
पान खाइ गाड़ी में थूकल
कहाँ भुलाता बीड़ी धूकल
दारूबाजन के हंगामा
पूर्णविराम ना रहे कामा
पंखा बन्द रहे आ टूटल
शौचालय के पानी रूठल
असली होखे भीड़ भड़ाका
इस्टेशन जब रूके चाका
पीछे से धाका पर धाका
इस्टेशन जब रूके चाका
कि लागे जइसे परल डाका
इस्टेशन जब रूके चाका
ना पास रहे ना रहे फेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

– आकाश महेशपुरी

21 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...