मुक्तक · Reading time: 1 minute

मुक्तक

नौकरी के साथ घर परिवार बा।
जे अकेले बा उहे लाचार बा।
गोंदिये में हर घड़ी बबुनी रहें।-
बंद सब कवितागिरी अब यार बा।

बनि गइल जबसे पड़ोसन प्यार बा।
हर घड़ी अब मेहरी से रार बा।
घर में’ ना तनिको रहल जाला सुनऽ-
इक झलक मिलला क इंतेज़ार बा।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

22 Views
Like
You may also like:
Loading...