लेख · Reading time: 1 minute

भोजपुरी के कचरा

केतना कुछ बा
लिखे के!
केतना कुछ बा
गावे के!!
संसद से लेके
सड़क ले!
केतना कुछ बा
सुने के!!
गीतकारों, गायकों और श्रोताओं से मेरी इतनी ही अपील है कि एक बार अपने दिल पर हाथ रखकर सोचिए कि आप लोग भोजपुरी के नाम पर क्या लिख, गा और सुन रहे हैं!

1 Like · 21 Views
Like
Author
111 Posts · 1.9k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist
You may also like:
Loading...