दोहा · Reading time: 1 minute

भोजपुरिया दोहा दना दन

रच दोहा भोजपुरिया, जमे रास-ओ-रंग
होरी के त्योहार मा, ज्यों चढ़ि जावे भंग // 1. //

यूपी-बिहार मा खिली, भोजपुरी के धूप
हिन्दी भासी क्षेत्र के, मधुर बरा ई रूप // 2. //

गीत गजब भोजपुरिया, नाच दिवाने झूम
गावो हियरा खोलि के, धोरति-अम्बर चूम // 3. //

ओ पुरवा के झोंकवा, ले जा तू सन्देस
हूक उठत बा सखि हिया, सजन भये परदेस // 4. //

कारे-कारे बदरवा, बरसो जमके खूब
चमके-दमके बिजुरिया, रुकि जा रे महबूब // 5. //

झुकी-झुकी बोलत पिया, कानों मा ये बात
नयनो के कजरा कहे, न्यारी लागे रात // 6. //

ठुमक-ठुमक के मोरवा, नाच दिखावे जोर
जानि गए री! सखि पिया, सजन बरे चितचोर // 7. //

देसिया बसे देसवा, विदेसिया परदेस
बिरहा प्रानी ना बसे, लगे हिया के ठेस // 8. //

दुलहनिया के पर लगे, बांध लगनवा डोर
बाँह पिया के झूलती, ओर दिखे ना छोर // 9. //

•••

3 Likes · 3 Comments · 91 Views
Like
Author
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार Books: इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); 'इक्यावन इन्द्रधनुषी ग़ज़लें' (ग़ज़ल संग्रह) प्रतिनिधि रचनाएँ (विविध पद्य रचनाओं का संग्रह); रामभक्त शिव (संक्षिप्त…
You may also like:
Loading...