· Reading time: 1 minute

बेलूरा ब्यास गवैया हो गइलन?

बेलूरा ब्यास गवैया हो गइलन?

कहेम केकरा से हमनी के लाज लागे,
बाकी होखनी के कौनो लाज नैखे?
गावे के कुछो त गावतारे कुछो
सबे बेलूरा व्यास गवैया हो गइलन?

गाना अइसन अइसन की
बेटी पुतोहू के संगे सुने मे लाज लागे
भोजपूरी गाना गंदा कर दिहलस एतना?
की आब त सब जाना के कहे मे लाज लागे?

लोहा गरम, जाता नइखे, पिछबा स मारेब तअ?
हइ बताबअ लोगन अइसने गंदा इनकर गीत ह?
रात बिरात स्टार बने के चक्कर मे,
भोजपुरी गायक सब लोक लाज भूला गइलन?

दुनू इंडिकेटर त निचबा कइसन होई
बताबअ आजकल इहे इनकर गीत सब हबें?
दादा हो दादा तनिको लाज बाटे की ना गवैया के?
बाकी आब त पोर्नो वला के भोजपूरी से लाज होखे लागल?

ए मर्दे तूं लोगन अपना के व्यास कहअ तारअ
भोजपूरी गाना हो की दुगोला होखे?
सभे गंदा गंदा बोल गावे बजाबे लगलन?
बेलूरा ब्यास बाड़ें उ सब स्टार कहाबे लगलन?

कवि-किशन कारीगर
(©काॅपीराईट)

2 Likes · 104 Views
Like
Author
4 Posts · 490 Views
कवि परिचय:- किशन कारीगर ( मूल नाम- डाॅ. कृष्ण कुमार राय). जन्म:- 5 मार्च 1983ई.(कलकता मे)। शिक्षाः- पीएच.डी(शिक्षाशात्र), एमएमसी(मास कम्युनिकेशन),एम्.एड,बी.एड, पि.जी.डिप्लोमा(रेडियो प्रसारण) । मैथिली/हिंदी/ बांग्ला मे किशन कारीगर उपनाम से…
You may also like:
Loading...