मुक्तक · Reading time: 1 minute

प्रभु से कर लीं प्रीत

कर लीं प्रभु के वंदना, सुबह-सुबेरे मीत।
हृदय बसा लीं राम के, गायीं उनकर गीत।
जग उद्धारक राम प्रभु , करीं सदा कल्याण-
सुखमय जीवन चाह बा, प्रभु से कर लीं प्रीत।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

28 Views
Like
You may also like:
Loading...