मुक्तक · Reading time: 1 minute

प्यार कालू त हमसे निभा जा सनम

मुक्तक
मापनी- २१२ २१२ २१२ २१२

प्यार कइलू त हमसे निभा जा सनम।
छोडि दऽ साथ हमरो भुला जा सनम।
ख्वाब में नाहि आइब इ वादा रहल-
मौत के नींद हमके सुला जा सनम।

साथ जिनगी बिताइब इरादा रहल।
हाय! मनवा में उनकी का दादा रहल।
लूटि के चैन हमरो रहें चैन से-
राह रोकब न कबहूँ इ वादा रहल।

आदमी आदमी के कहाँ खास बा।
बस खुदा की रहम पर चलत साँस बा।
काम सगरो बनावत बिगाड़त उहे-
राम के आस बा और विश्वास बा।

जख्म बा जिंदगी तऽ दवा जिंदगी।
धूप बा जिंदगी तऽ हवा जिंदगी।
दूर जे भी रहल लोभ से द्वेष से-
हर घड़ी आज उनकर नवा जिंदगी।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

15 Views
Like
You may also like:
Loading...