मुक्तक · Reading time: 1 minute

पियाज रोटी खाइब

नानी घरे जाइब त हम न लजाइब।
उनके हाल जानके आपन जनाइब।
मन में बा हमरे कि कहि देइ नानी से,
ये नानी हम त पियाज रोटी खाइब।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

110 Views
Like
You may also like:
Loading...