ग़ज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

नशा हो गइल

मापनी-212 212 212 212
***********************

नैन उनकर शराबी नशा हो गइल।
जुल्फ लहरल त करिया घटा हो गइल।

नींद नैना लुटल चैन हमरो गइल।
आज अँखिया मिलावल सजा हो गइल।

प्रीत के घाव गहिरा भइल आजकल,
यार हमरो रहल बेवफा हो गइल।

ऊ कुरेदति हवे जख्म कइसे भरी,
आह में अब त हमरो मजा हो गइल।

याद में हर घड़ी यार खोवल रहऽ,
‘सूर्य’ लागत ह तहरो कजा हो गइल।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

37 Views
Like
You may also like:
Loading...