दोहा · Reading time: 1 minute

दोहा

दिनांक-२९/०८/२०२१

ईश्वर, अल्ला एक बा, राम, कृष्ण सब एक।
असमंजस में जनि पड़ी, कर्म करीं बस नेक।।

कइसन ई संकोच बा, काहें आवत लाज।
राम नाम सुमिरन कइल, सुरू करीं जी आज।।

मानव के दुश्मन इहे, लज्जा अरु संकोच।
काम न कवनो छोट बा, बदलीं आपन सोच।।

प्यार अगर कइले हवऽ, जनि करिहऽ संकोच।
आवे मत दीहऽ कबो, यार ऊपर खरोच।।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

9 Views
Like
You may also like:
Loading...