गीत · Reading time: 1 minute

दुनिया में कहे खातिर बहुते इयार

दुनिया में कहे खातिर बहुते इयार
■■■■■■■■■■■■■■■
दुनिया में कहे खातिर बहुते इयार
इहाँ केहू केहू हो
करे दिलवा से प्यार
इहाँ केहू केहू हो

मिसिरी मलाई नियर लोग बतिआवेला
उपरा से फूल तरे मुसुकी लगावेला
मनवा में रखले बा बाकिर कटार-
इहाँ केहू केहू हो
करे दिलवा…इहाँ…

अपने गरज से इयारी करे दुनिया
माहुर मिलाई के खिआई देला बुनिया
हँसेला लोग फेरु खोतवा उजार-
इहाँ केहू केहू हो
करे दिलवा…इहाँ…

धन रही लगे बड़ी मिलिहें संघतिया
हाथ होई खाली उहे सुनिहें ना बतिया
पूछहु ना अइंहें भले जइबऽ सिधार-
इहाँ केहू केहू हो
करे दिलवा…इहाँ…

– आकाश महेशपुरी

22 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...