कविता · Reading time: 1 minute

दारू से का फायदा

दारू से का फायदा
. . . . . . . . . .
दारू से का फायदा सोचनी आजु गिनावे के
येही से परल हऽ हमरा कागज कलम उठावे के
ना लाठी के परे जरूरत ना ई ज्यादा खोखे दे
पहिला फायदा ईहे हऽ ई बूढ़ कबो ना होखे दे
भरल जवानी में अइसनका रोग भयानक धरेला
बुढ़ौती के दुख भोगला से पहिले लोगवा मरेला
दूसर फायदा ई होला कि पिल्ला नाहीं काटे सन
नबदाने में पावे सन तऽ मुँहवे भर उ चाटे सन
फायदा सुनीं एगौरी होला चोर ना कहियो आवे सन
घर में कुछ बचले नइखे तऽ झूठ-मूठ का धावे सन

– आकाश महेशपुरी

31 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...