गीत · Reading time: 1 minute

तहरे प सब कुरबान करऽतानी

तहरे प सब कुरबान करऽतानी
■■■■■■■■■■■■■
तहरे प सब कुरबान करऽतानी
येहितरे जिनिगी जियान करऽतानी

काटि काटि लिखनी तऽ घाव गहरे बा
येह रे करेजवा पर नाव तहरे बा
रोजे रोज केतना निशान करऽतानी-
येहितरे जीनिगी जियान करऽतानी

कबो कबो खाईं कबो कटि जा उपासे
रात भर रोईं दिन कटि जा उदासे
पार रोजे गाँव के सिवान करऽतानी-
येहितरे जिनिगी जियान करऽतानी

नीक नाहीं हवे प्यार तबो नीक लागे
खुद के बिसारि दीहनी हम तहरे आगे
जागि जागि जागि के बिहान करऽतानी-
येहितरे जिनिगी जियान करऽतानी

– आकाश महेशपुरी

26 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...