गीत · Reading time: 1 minute

जिंदगी के तमाशा

जिंदगी के तमाशा
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
बाटे मुश्किल जियल आ मरल बा कठिन
जिंदगी के तमाशा कहल बा कठिन

केहू गलती करे केहू पावे सजा
केहू दुखवा सहे केहू लेला मजा
ये गरीबी पअ अपना रोवल बा कठिन-
जिंदगी के तमाशा कहल बा कठिन

लोग बदले लगल बा छने-छन इहाँ
छल सोचे इयरवो मने-मन इहाँ
हाँथ हँस के केहू के दिहल बा कठिन-
जिंदगी के तमाशा कहल बा कठिन

ज़ख्म सी के इहाँ लोर पी के इहाँ
सुख मिली आ कि ना कहियो जी के इहाँ?
प्रश्न ई बा कठिन येके हल बा कठिन-
जिंदगी के तमाशा कहल बा कठिन

ना साहाला ई गम केहू कइसे सहे
मुस्कुरा के जियअ सभे इहे कहे
गम के सागर में जा के हँसल बा कठिन-
जिंदगी के तमाशा कहल बा कठिन

– आकाश महेशपुरी

1 Like · 1 Comment · 64 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...