मुक्तक · Reading time: 1 minute

जाति मजहब जिंदगी में भाव मत दीं

जाति, मजहब जिंदगी में, भाव मत दीं।
बाति जब नफरत क होखे, चाव मत दीं।
तीर शब्दन के बहुत ही, दर्द देला-
शब्द के मरहम लगाईं, घाव मत दीं।

भजि लऽ हरि के नाम।
बनि जाई सब काम।
सुबह सबेरे रोज-
बोलऽ सीताराम।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

8 Views
Like
You may also like:
Loading...