मुक्तक · Reading time: 1 minute

चौपाई छंद आधारित मुक्तक

विधा-मुक्तक
आधार छंद-चउपाई

कवनो नाहीं चली बहाना।
लागल रहि ई जाना आना।
लाख उधापन कऽ लऽ भाई-
साथ न जाई माल खजाना।

जीवन अउर मरण के खेला।
मानव मूरख निपट अकेला।
हाय-हाय बेकार करेलऽ-
साथे नाहीं जाई ढेला।

नवका युग के मेहरि आइल।
जिंस टाप में मन अझुराइल।
माई कपड़ा बरतन धोवे-
ठेहुन में के दरद भुलाइल।

स्वाभिमान पर जे मरि जाला।
बोस, भगत,आजाद कहाला।
देशभक्त वीरन के फोटो-
गरदन में जग पहिने माला।

साजन के बिन सावन कइसन।
तुलसी के बिन आँगन कइसन।
रो-रो आज कहेली राधा-
कान्हा के बिन मधुबन कइसन।

फुसुर फुसुर बतिआवेला जे।
गावल गीत सुनावेला जे।
मेहरि मउगा नाम धराइल-
दुनू हाथ चमकावेला जे।

धोती खोल क फेटा बान्हल।
पगहा खोल क पाड़ी छानल।
कोशिश लाख करऽ तू भाई-
मनबढ़ मूरख सत्य न जानल।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

16 Views
Like
You may also like:
Loading...