मुक्तक · Reading time: 1 minute

गोसाईं जी के मुसवा

याद बा भैया? जब आइल रहे मुँह -नोचवा।
बोरा में लइकन के उठा ले जा धकरकोसवा।
बाद में पता चलल कि ई सब अफवाह हे,
असली में खइले पिसान गोसाईं जी के मुसवा।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

1 Like · 95 Views
Like
You may also like:
Loading...