मुक्तक · Reading time: 1 minute

कुदरत ही इंसाफ़ करी

का केहू
सजा दी तहके
का केहू
हमके माफ़ करी
के दोषी
बा के निर्दोष
कुदरत ही
अब इंसाफ़ करी…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra

19 Views
Like
Author
111 Posts · 1.9k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist
You may also like:
Loading...