गीत · Reading time: 1 minute

कहिया ले सुनी सरकार

कहिया ले सुनी सरकार
■■■■■■■■■■■■■■
कहिया ले सुनी सरकार बतलाईं
कहिया ले सुनी सरकार

रोजी बाटे ना रोटी बा घर में
माँगत भीखि लोग जा के नगर में
लिहलें कटोरा हजार बतलाईं-
कहिया ले सुनी सरकार
कहिया…

उपाजे अनाज आ रही जा उपासे
ना कबो किसानन के सुख चढ़े बासे
कि सुने ना केहू पुकार बतलाईं
कहिया ले सुनी सरकार
कहिया…

अपने दवाई करावें विदेश में
राजा त राजा बा जनता कलेश में
जिनिगी भइल बाटे भार बतलाईं-
कहिया ले सुनी सरकार
कहिया…

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 28/10/2020

29 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...