कविता · Reading time: 1 minute

आपातकाल

मिल जाई अफ़सर
भाग जाई नेता!
देश पर होई जब
दुश्मन के कब्ज़ा!!
बिक जाई सेठ
भजन गाई धर्मगुरु!
झेले के गुलामी
छूट जाई जनता!!
Shekhar Chandra Mitra
#TalibanAttack
#न्यस्तस्वार्थ

11 Views
Like
Author
111 Posts · 1.9k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist
You may also like:
Loading...