कविता · Reading time: 1 minute

आपन-आपन खूबी

केहू तन जोहेला
केहू मन जोहेला
केहू धन जोहेला
केहू फ़न जोहेला
इहां अपना-अपना
खूबी के मुताबिक
चीज़ सगरी लोग
क्षन-क्षन जोहेला
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
(A Dream of Love)

5 Views
Like
Author
111 Posts · 1.9k Views
Lyricist, Journalist, Social Activist
You may also like:
Loading...