घनाक्षरी · Reading time: 1 minute

आधार खेती बारी

आधार खेती बारी
■■■■■■■■
मूर्ख बुद्धिमान चाहे देश के जवान होखे,
राजा रंक सबकर आधार खेती-बारी।
तनवा के वस्त्र देला पेटवा के अन्न फल,
विधाता के हउवे अवतार खेती-बारी।
औषधि हजार देला अउरी मिठास खूब,
ई देश के उठावे सजी भार खेती-बारी।
केतनो गिनाईं गिन पाईं नाहीं नाव हम,
दे एतना अधिक उपहार खेती-बारी।।1।।

जेतने लगावअ् नेह ओतने तू पावअ् छेह,
नीक सबका से हअ इयार खेती-बारी।
गाइ एगो दुआरा प घास भूसा पुआरा प,
चउवनों के हउवे आहार खेती-बारी।
हरिहर खेत सजी मनवा के दुख हरे,
ई भरे हर घर के बखार खेती-बारी।
केतनो जनम होखे होखे उ किसान घरे,
येही तर से करीं हर बार खेती-बारी।।2।।

– आकाश महेशपुरी

1 Like · 1 Comment · 19 Views
Like
Author
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मो. न. 9919080399 मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त 1980 शैक्षिक योग्यता- स्नातक ॰॰॰ प्रकाशन- सब रोटी का खेल (काव्य संग्रह)…
You may also like:
Loading...